DR. MAYA SHANKAR JHA

SOCIAL WORKER & TEACHER

Blog

गरीबों की सेवा

Posted by mayashankarjha on April 22, 2011 at 10:30 AM

 

गरीबों की सेवा

हृदयकी सच्ची और शुद्ध कामना अवश्य पूरी होती है। अपने अनुभव में, मैंने इसकथन को सदा सही पाया है। गरीबों की सेवा मेरी हार्दिक कामना रही है औरइसने मुझे सदा गरीबों के बीच ला खड़ा किया है L मुझे उनके साथ तादात्म्यस्थापित करने का अवसर दिया है।मैंने जीवन भर निर्धनों से सदा प्रेम कियाहै और भरपूर मात्रा में किया है। मैं अपने विगत जीवन के अनेक उदाहरण देकरयह स्पष्ट कर सकता हूँ कि मेरा यह प्रेम मेरे स्वभाव का अंग है । मुझेगरीबों के मध्य और अपने बीच कोई फर्क महसूस नहीं हुआ है । मुझे वे सदाअपने सगे-संबंधी ही लगे हैं। भारत भारती समाज की स्थापना करने के बाद सेमुझे और भी अदम्य विश्वाश हो गया है कि मानव सेवा ही परम सेवा है L आप सेभी निवेदन है कि आप भारत भारती समाज का सदस्य बन कर मानव सेवा कार्य मेंलग जाएँ L आपकी आत्मा पवित्र रहेगी L

आपका मित्र ,

डॉ. माया शंकर झा ,

कोलकाता

 


Categories: None

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

0 Comments